गाडगेबाबा की पुण्यतिथि: एक प्रेरणा, एक संकल्प

By L SHingane

आज, 20 दिसंबर 2023 को, राष्ट्रसंत गाडगेबाबा की पुण्यतिथी है। वह एक महान समाज सुधारक, प्रवचनकर्ता और संत थे।

उन्होंने अपने जीवन में अज्ञान, अंधविश्वास और गंदगी को दूर करने के लिए काम किया।

गाडगेबाबा का जन्म 23 फरवरी 1876 को महाराष्ट्र के अमरावती जिले के शेडगाव गांव में हुआ था।

नका असली नाम डेबूजी झिंगराजी जाणोरकर था। वह एक धोबी परिवार में पैदा हुए थे।

गाडगेबाबा बचपन से ही धार्मिक और सामाजिक कार्यों में रुचि रखने वाले व्यक्ति थे। उनके पिता झिंगराजी राणोजी जाणोरकर एक साधु थे।

गाडगेबाबा ने अपने प्रवचनों के माध्यम से जनजागरूकता का काम किया। उन्होंने लोगों को शिक्षा, स्वच्छता और चरित्र के महत्व को समझाया।

गाडगेबाबा एक साधारण और गरीब थे। वे फटी चप्पल और सिर पर मिट्टी की थाली लेकर पैदल यात्रा करते थे। वे गांव की गलियों और सड़कों को साफ करते थे।

गाडगेबाबा ने अपने कार्यों से महाराष्ट्र के समाज में महत्वपूर्ण योगदान दिया। उन्हें "संत" और "राष्ट्रसंत" नाम से जाना जाता है।